बलात्कारी सतेंद्र शर्मा का नया खेल: अस्पताल व डायग्नोस्टिक सेंटराें काे ब्लैकमेल करने के लिए चोरी करा रहा लेटरपैड, तस्वीर सीसीटीवी में हुआ कैद, थाने में शिकायत दर्ज

चोरी के लेटरपैड पर झूठी रिपोर्ट लिख करता है ब्लैकमेल, स्वास्थ्य विभाग की मिलीभगत से करता है लाखों की वसूली

0 662

गाेरखपुर: करीब 23 महीने तक जेल की सजा काट चुका सत्येंद्र शर्मा अब फर्जी पत्रकार बनकर अस्पतालाें व डायग्नाेस्टिक सेंटर संचालकाें काे ब्लैकमेल कर पैसे की उगाही कर रहा है। इसमें उसका पूरा साथ गाेरखपुर के स्वास्थ्य विभाग के पीसी पीएनडीटी के नोडल अफसर डाॅ नीरज पांडे दे रहे हैं। इसके लिए सत्येंद्र शर्मा हर महीने उन्हें लाखाे रुपए वसूल कर देता है। ब्लैकमेलिंग के लिए सत्येंद्र शर्मा अपने शातिर दिमाग का इस्तेमाल करता है। इसके लिए वह कुछ छाेटे माेटे चाेराें के साथ मिलकर अस्पतालाें व डायग्नाेस्टिक सेंटराें का पहले लेटर पैड चाेरी कराता है, इसके बाद लेटर पैड पर अपनी तरफ से फर्जी रिपाेर्ट बनाकर अस्तापल व डायग्नाेस्टिक सेंटर के संचालको काे धमकाकर मोटी रकम की मांग करता है, जाे लाेग पैसा देने के लिए तैयार हाे जाते हैं उन्हें छाेड़ दिया जाता है और जाे पैसे नहीं देते हैं उनके खिलाफ सत्येंद्र शर्मा साेशल मीडिया में न्यूज बनाकर चलाता है। इसके बाद नीरज पांडे इसका त्वरित संज्ञान लेकर सेंटराें पर छापेमारी की प्रक्रिया शुरू कर देते हैं। इस प्रकार का सबसे ताजा मामला कार्तिकेय डायग्नाेस्टिक सेंटर भाेपा बाजार चाैरी चाैरा का है। जहां इसके गुर्गाें ने पहले सेंटर का लेटर पैड चाेरी किया फिर सत्येंद्र शर्मा ने इस लेटर पैड पर फर्जी रिपाेर्ट लिखकर स्वास्थ्य विभाग काे दे दिया। इसके बाद आराेपाें की जांच करने विभाग की टीम पहुंच गयी। लेकिन सत्येंद्र शर्मा ने जाे आराेप लगाए थे जांच में कुछ भी वैसा नहीं पाया गया। जिसके बाद जांच टीम वापस लाैट अायी। यह सब सिर्फ इसलिए किया गया क्याेंकि सेंटर के संचालक ने सत्येंद्र शर्मा काे विज्ञापन के नाम पर पैसा नहीं दिया।

सीसीटीवी से हुआ खुलासा:
जिस रिपाेर्ट के आधार पर जांच टीम कार्तिकेय डायग्नाेस्टिग सेंटर पहुंची थी। जब उसके सत्यता की जांच की गयी ताे वह पूरी तरह फर्जी निकला। इसके बाद सेंटर केे मालिक ने वहां लगे सीसीटीवी कैमरे की जांच की ताे पता चला की सेंटर का लेटर पैड चाेरी किया गया। ऐसा करते चाेराें की तस्वीर कैमरे में कैद हाे गयी। जिसमें वे स्पष्ट रूप से लेटर पैड ले जाते नजर आ रहे हैं।
थाने में शिकायद दर्ज:
इस पूरे मामले में डायग्नाेस्टिक सेंटर के संचालक की ओर से स्थानीय थाना चौरी चौरा में लिखित शिकायत दर्ज करा दी गयी है। इसमें पैड चाेरी करने वाले व उनकाे संरक्षण देने वाले के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गयी है।
इसके हर फर्जी रिपाेर्ट पर कार्रवाई करते हैं नीरज पांडेय:
फर्जी पत्रकार व डाॅ नीरज पांडे का संबंध किस तरह गहरा है। इसे ऐसे समझ सकते हैं कि सत्येंद्र शर्मा जिस भी अस्पताल व डायग्नाेस्टिक सेंटर के खिलाफ खबर साेशल मीडिया पर चलाता है, वहां नीरज पांडे छापेमारी करवा देता है। हालांकि आज तक उनके छापे व जांच में कभी भी आराेप सही नहीं साबित हुए हैं, जिससे विभाग की किरकिरी हाेती रहती है। जबकि इसके विपरित सत्येंद्र शर्मा के संरक्षण में फर्जी ढंग से चल रहे आदित्य अस्पताल रामलीला मैदान गिरधरगंज (संचालक-पंकज सिंह), ओम साई हास्पिटल जंगल सीकरी देवरिया राेड गाेरखपुर (संचालक-राजन सिंह), अादर्श हास्पिटल कुड़ाघाट पर अाज तक स्वास्थ्य विभाग की टीम नहीं पहुंची।
सत्येंद्र शर्मा पर यह अाराेप भी है:
:: सत्येंद्र शर्मा पहले डाॅ एमके शाही बनकर करता था इलाज
::23 महीने तक काट चुका है जेल की सजा थाना-पिपराईच, थाना-गोरखनाथ, थाना-शाहपुर, थाना- कैंट में गंभीर धाराओ में आपराधिक मुकदमें दर्ज हैं।
:: स्वाथ्य विभाग के डाॅ नीरज पांडेय से सांठ-गांठ कर अस्पताल व डाग्नाेस्टिक सेंटर काे करता है ब्लैक मेल
:: नशे का आदी भी है सत्येंद्र शर्मा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!